गुरुवार, 15 फ़रवरी 2018

सामाजिक चिंतन - भाग- 10
महापुरुषों के आदर्श अपनाओं
          महापुरुषों, संत, महात्मा, आत्मा, परमात्मा, प्रकृति, ज्ञान-विज्ञान, अंधविश्वास, ज्योतिष, कर्मकाण्ड, जीवनियाँ, संस्मरण आदि-आदि महत्वपूर्ण विषयों पर साहित्य रचनाऐं हुई है, और जो लिखा गया है, उस पर या तो आस्था के साथ या वैज्ञानिक आधारो पर ठोस धरातल को ध्यान देकर अध्ययन किया जा सकता है। एक लेखन पर चुनौतियाँ देकर ठोस मर्म समझकर अपने जीवन में अपनाया जाता है, या फिर जिस लेखन का कोई ठोस आधार ही नहीं है, उसे आस्था के साथ स्वीकार कर परम्परा से अपनाई जाने वाली पद्धति पर बिना सोंचे-समझे अंधभक्त बनकर अपना आचरण करने का स्वभाव बन जाता है।
          हम यहाँ सामाजिक चिन्तन कर रहे है, और जिसे चुनौति पूर्ण मान्यता मिलती है, उस लेखन से हम प्रेरणा लेकर अपना जीवन जीने की कला को विकसित करने पर ही विचार करेंगे।
          तथागत महात्मा बुद्ध द्वारा मानव मात्र को करूणा एवं शान्ति से सुख पूर्वक जीने की कला सिखाई है और बुद्ध द्वारा कहे गये शब्दो जिन्हें लेखन से जानकारी मिलती है। वे आदर्श हम अपने जीवन जीने की पद्धति में उतार सकते है। बुद्ध कभी किसी मानव-मानव में बैरभाव उत्पन्न करना नहीं सिखता है। सच्चे आचरण पर चलने के लिये प्रेरणा देता है। नारी का सम्मान करना मानव मात्र का कर्तव्य है। जो विषय हम अपनाते है, वह वैज्ञानितक धरातल पर आजमाया जा सकता है। इसमें किसी प्रकार का अन्ध-विश्वास पैदा नहीं होने देता है। हम सुख पूर्वक अपना कर्तव्य निभाते हुऐ आनन्द का जीवन बुद्ध के साहित्य के आधार पर जी सकते है। अपने परिजनों को विकास की और प्रेरित कर सकते है।
            हम कबीर की वाणियों को अपने जीवन में उतार कर सतर्कता से जीने का मार्ग अपना सकते है, किसी प्रकार के ढांेग और आस्था का मार्ग कबीर की वाणी में है, ही नहीं। ठोस धरातल पर खरा आदर्श मिलता है। हम कबीर का साहित्य पढ़-समझकर अपना जीवन सुखी बना सकते है।
           हम सामाजिक क्रांति के जनक महात्मा जोतीराव फुले के जीवन से, उनके द्वारा लिखे गये साहित्य की प्रेरणा लेकर एक सच्चा आदर्शवादी जीवन जी सकते है फुले हमें कहीं भी आस्था के भ्रमरजाल में फसने नहीं देते है। फुले का आदर्श तो स्पष्ट ठोस धरातल पर मार्ग दर्शन करता है, कि ‘‘आकारो से छूटकारा पाकर-विचारों को अपनाओं’’ पूजा से परमात्मा प्रसन्न नहीं होते, प्रार्थना में बड़ी शक्ति है। फुले ने तो अनेक कंटको का सामना करते हुऐ मानव उद्धार के लिये लेखन किया है, जो प्रत्येक काल में जैसे-जैसे पढ़ने का अवसर मिलता है, फुले के आदर्श मानव उत्थान में पूरी तरह सहायक है। हमें फुले साहित्य पढ़कर अन्धकार भगाना ही है।
           प्रथम शिक्षिका सावित्री माई फुले के जीवन से उनके द्वारा लिये गये साहित्य से प्रेरणा लेकर परोपकार शिक्षा, स्वास्थ्य की समझ विकसित करने का अवसर मिलता है। प्रत्येक मानव को फुले दम्पत्ति के आदर्शों को अपनाकर जीवन के अनेक झंझावातो से छूटकारा पाने का भी अवसर मिलता है। हम सावित्री माई फुले द्वारा सुझाये मार्गों को अपनाकर आदर्श मानव बन सकते है। जीवन सुखी रह सकता है।
            प्रथम टेªड युनियन नेता नारायण मेघाजी लोखण्डे की जीवनी से प्रेरणा लेकर एक सच्चा क्रांतिकारी आदर्श अपना सकते है। परोपकार ही जीवन का उद्देश्य बना सकते है।
            हम चिन्तन करे और स्वयं तो मानव जीवन का आनंद लेवे और दुसरों को भी प्रेरित कर सामाजिक महापुरूषो का साहित्य उनके आदर्शों को अपनाने हेतु चिंतन कर कुछ न कुछ जरूर कर सकते है।
          अपने जीवन का प्रत्येक क्षण अनर्थ आस्थाओं भटकाओं में उलझने से बचकर वैज्ञानिक आधारों से जो खरा तपा हुआ सत्य निकलता हो ऐसे अपना स्वयं का और दुसरो का आदर्श बनाने हेतु उपरोक्त महापुरूषों की प्रेरणा लेकर अपना आचरण करने की पद्धति अपनाने से अनेक कष्ट अपने आप समाप्त हो सकते है।
       आइये समाज के महापुरूषों के आदर्शों को अपनाना आज से ही प्रारंभ कर आनंद पूर्वक जीवन को प्रफुल्लित रखें।
    (रामनारायण चैहान)
       महासचिव
 महात्मा फुले सामाजिक शिक्षण संस्थान
          A-103, गाजीपुर, दिल्ली- 96
       मों. नं.- 9990952171
    Email- phuleshikshanshansthan@gmail.com


सोमवार, 29 जनवरी 2018

सैनी ने जीता मिस इंडिया यूएसए 2017 का खिताब

इस कॉन्टेस्ट में 22 साल की प्राची शाह फर्स्ट रनरअप और फरीना दूसरे रनरअप के तौर पर चुनी गई हैं


श्री सैनी ने जीता मिस इंडिया यूएसए 2017 का खिताब











वाशिंगटन की रहने वाली 21 साल की श्री सैनी ने मिस इंडिया यूएसए 2017 का खिताब अपने नाम कर लिया है. इस कॉन्टेस्ट में 22 साल की प्राची शाह फर्स्ट रनरअप और फरीना दूसरे रनरअप के तौर पर चुनी गई है. वहीं 17 साल की स्वपना मन्नम ने मिस इंडिया टीन यूएसए का खिताब जीता है.
मिस इंडिया यूएसए बनी श्री सैनी वाशिंगटन यूनिर्वसिटी में पढ़ती हैं और सेवा के क्षेत्र में काम करना चाहती हैं. 12 साल की उम्र में ही उन्हें पेसमेकर लग चुका था. डॉक्टर के श्री सैनी के नृत्य पर पाबंदी लगाने के बावजूद उनका जज्बा कम नहीं हुआ और आज वो सबके लिए प्रेरणा बन गईं हैं.

स्कूल में पढ़ने के दौरान डराने धमकाने का शिकार बनी श्री सैनी अब एक आत्मविश्वास से भरी महिला हैं. उनका कहना है कि वो मानव तस्करी को समाप्त कर समाज में भावनात्मक बेहतरी के महत्व को बढ़ावा देने की दिशा में काम करना चाहती हैं.
50 से ज्यादा राज्यों की प्रतिभागियों ने इस कॉन्टेस्ट में हिस्सा लिया था और छह जजों की टीम ने इसे जज किया
इस कॉन्टेस्ट की शुरुआत न्यूयॉर्क में बसे भारतीय-अमेरिकी मूल के धरमात्मा सरन और नीलम सरन ने 1980 में की थी. हिन्दुस्तान के बाहर सबसे ज्यादा सबसे लंबे समय तक चलने वाले ये भारतीय कॉन्टेस्ट ने अब तक कई भारतीय कलाकारों को अपनी पहचान बनाने का मौका दे चुका है.

सावित्रीबाई फुले की कुछ कविताएँ

1.
“ज्ञान के बिना सब खो जाता है
ज्ञान के बिना हम जानवर बन जाते हैं
इसलिए ख़ाली न बैठो और जा कर शिक्षा लो
तुम्हारे पास सिखने का सुनहरा मौक़ा है
इसलिए सीखो और जाति के बन्धन तोड़ो”
2.
“गुलाब का फूल
और फूल कनेर का
रंग रूप दोनों का एक सा
एक आम आदमी
दूसरा राजकुमार
गुलाब की रौनक
देसी फूलों से
उसकी उपमा कैसी?”
3.
“पत्थर को सिन्दूर लगाकर
और तेल में डुबोकर
जिसे समझा जाता है देवता
वो असल में होता है पत्थर”
4.
“हमारे जानी दुश्मन का
नाम है अज्ञान
उसे धर दबोचो
मज़बूत पकड़ कर पीटो
और उसे जीवन से भगा दो”

गुरुवार, 11 जनवरी 2018

 माली समाज का इतिहास

       माली ” शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के शब्द माला से हुई है, 
      एक पौराणिक कथा के अनुसार माली कि उत्पत्ति भगवान शिव के कान में जमा धुल (कान के मेल ) से हुई थी ,वहीँ एक अन्य कथा के अनुसार एक दिन जब पार्वती जी अपने उद्यान में फूल तोड़ रही थी कि उनके हाथ में एक कांटा चुभने से खून निकल आया, उसी खून से माली कि उत्पत्ति हुई और वहीँ से माली समाज अपने पेशे बागवानी से जुडा |
      माली समाज में एक वर्ग राजपूतों कि उपश्रेणियों का है| विक्रम सम्वत १२४९ (११९२ इ ) में जब भारत के अंतिम हिंदू सम्राट पृथ्वी राज चौहान के पतन के बाद जब शहाबुद्दीन गौरी और मोहम्मद गौरी शक्तिशाली हो गए और उन्होंने दिल्ली एवं अजमेर पर अपना कब्ज़ा कर लिया तथा अधिकाश राजपूत प्रमुख या तो साम्राज्य की लड़ाई में मारे गए या मुग़ल शासकों द्वारा बंदी बना लिए गए, उन्ही बाकि बचे राजपूतों में कुछ ने मुस्लिम धर्म स्वीकार कर लिया और कुछ राजपूतों ने बागवानी और खेती का पेशा अपनाकर अपने आप को मुगलों से बचाए रखा , और वे राजपूत आगे चलकर माली कहलाये !
माली समाज का इतिहास
     किसी भी जाती, वंश एव कुल परम्परा के विषय मे जानकारी के लिये पूर्व इतिहास एव पूर्वजो का ज्ञान होना अति आवश्यक है| इसलिए सैनी जाती Saini Samaj History के गोरव्पूर्ण पुरुषो के विषय मे जानकारी हेतु महाभारत काल के पूर्व इतिहास पर द्रष्टि डालना अति आवश्यक है| आज से ५१०६ वर्ष पूर्व द्वापरकाल के अन्तिम चरण मे य्द्र्वंश मे सचिदानंद घन स्वय परमात्मा भगवान् श्रीकृषण क्षत्रिय कुल मे पैदा हुए और युग पुरुष कहलाये| महाभारत कई युध्दोप्रांत यदुवंश समाप्त प्राय हो गया था| परन्तु इसी कुल मई महाराज सैनी जिन्हे शुरसैनी पुकारते है| जो रजा व्रशनी के पुत्र दैव्मैघ के पुत्र तथा वासुदेव के पिता भगवन श्रीकिशन के दादा थे| इन्ही महाराज व्रशनी के छोटे पुत्र अनामित्र के महाराज सिनी हुये, इस प्रकार महाराज शुरसैनी तथा सिनी दोनों काका ताऊ भाई थे| इन्ही दोनों महापुरुषों के वंशज हम लोग सैनी क्षत्रिय कहलाये|
        कालांतर में वृशनी कुल का उच्चारण सी वृ अक्षर का लोप हो गया और षैणी शब्द उच्चारित होने लगा जो आज भी उतरी भारत के पंजाब एव हरियाणा प्रांतो मे सैनी शब्द के एवज मे अनपढ़ जातीय बंधू षैणी शब्द ही बोलते है, और इसी सिनी महाराज के वंश परम्परा के अपने जातीय बह्धू सिनी शब्द के स्थान पर सैनी शब्द का उच्चारण करने लगे है| जो सर्वथा उचित और उत्तम है| कालांतर मे वृशनि गणराज्य संगठित नहीं रहा और भिन्न भिन्न कबीलों मे विभाजित होकर बिखर गया| किसी भी भू भाग पर इसका एकछत्र राज्य नहीं रहा किन्तु इतिहास इस बात का साक्षी है| की सैनी समाज के पूर्वज क्षत्रिय वंश एव कुल परम्परा मे अग्रणी रहे है|
         महाभारत काल के बाद सैनी कुल Saini Community के अन्तिम चक्रवर्ती सम्राट वीर विक्रेमादित्य हुए है जिन्हे नाम पर आज भी विक्रम सम्वत प्रचलित है| इससे यह स्पष्ट है की सैनी जाती का इतिहास कितना गोरवपूर्ण रहा है| यह जानकर सुखद अनुभूति होती है की हमारे पूर्वज कितने वैभवशाली वीर अजातशत्रु थे| भारत राष्ट्र संगठित न रहने पर परकीय विदेशी शासको की कुद्रष्टि का शिकार हुआ तथा कुछ शक्तिशाली कबीलों ने भारत को लुटने हेतु कई प्रकार के आक्रमण शुरू कर दिये, यूनान देश के शासक सिकंदर ने प्रथम आक्रमण किया किन्तु पराजित होकर अपने देश यूनान वापस लोट गया|
         इसके बाद अरब देशो के कबीलों ने भारत पर आक्रमण कर लूटपाट शुरू कर दी और भारत पर मुस्लिम राज्य स्थापित कर कई वर्षो तक शासन किया| इसके बाद यूरोप देश के अग्रेज बडे चालाक चतुर छलकपट से भारत पर काबिज हो गये| अन्ग्रजो ने भारत के पुराने इतिहास का अध्यन करने यहा के पूर्व शासको एव जातियों के इतिहास की जानकारी हेतु कई इतिहासकारों को भारत की भिन्न प्रांतो मे इतिहास संकलन हेतु नियुक्त किया | एक प्रसिध्द अंग्रेज इतिहासकार ‘परजिटर’ ने भारत की पोरानिक ग्रंथो के आधार पर अपने वृशनी वंश का वृक्ष बिज तैयार किया जिसका भारत के प्रसिध्द इतिहासकार डा.’ए.डी.पुत्स्लकर ‘ एम.ए.,पी एच डी ने भी इस मत का प्रतिपादन किया है| 
        वृशनी (सैनी) जाती के महाराज वृशनी के बाबत अग्रेजी मे लिखा ” Vrishanis youngest son Anamitra have a son and their desiendents were called ” Saiyas “(See Anicient Indian Hostorical Traditio 1922 page 104-105-105)” महाराज वृश्निजी के चोटी पुत्र अनामित्र के महाराज सीनी हुये इसी सिन्नी शब्द का पर्यायवाची शब्द ‘सैनी’ हुआ जिनकी वंशज कहलाते है| (देखे भारत के प्राचीन इतिहास के संकलन मे सं १९२२ मे पेज नं. १०४ सी १०६ तक )|
          इस प्रकार भारत के प्राचीन ग्रंथ इतिहास पुरान तथा महाभारत के अनुशासन पर्व मे भी महाराज सैनी के सम्बन्ध मे उल्लेख मिलता है| १. वायु पुराण अध्याय ३७ शुरसैनी महाराजर्थी एक गुनोतम तथा श्लोक १२९ जितेन्द्रिय सत्यवादी प्रजा पालक तत्पर : २. महाभारत अनुशासन पर्व अध्याय १४९ ‘सदगति स्तक्रती संता सदगति सत्य न्याय परायण’ तथा श्लोक ८८ मे शुर सैनी युद्ध स्न्निवास सुयामन: महाराज शुरसैनी चन्द्रवंशी सम्राट थे इनका राज्य प्राचीनकाल की हस्तिनापुर (वर्मन दिल्ली क्षेत्र पंजाब तथा मथुरा वृदावन उतर प्रदेश) मे फैला हुआ था|इसका वर्णन चाणक्य श्रिषी ने चन्द्रगुप्त मोर्य के शासनकाल मे २५० वर्ष पूर्व था उसका वर्णन कोटील्य अर्थशास्त्र मे किया है की यदुवंश (षैनी) राज्य एव सूर्यवंशी गणराज्य बिखर चुकाई थे| इन राजपरिवारो के कुछ शासको ने बोद्ध धर्म ग्रहण कर लिया कुछ एक ने जीविकोपार्जन के लिय कृषि को अपना लिया|
          यूनान के सिकंदर Sikandar Great के साथ जो यूनानी इतिहासकार भारत मे आये थे| उन्होने इतिहास संकलन करते समय यदुवंशी तथा सैनी राजाओ मे उच्च कोटी की वीरता और क्षोर्य के साथ साथ उन्हे अच्छ कृषक भी बताया तथा कोटीलय के अर्थक्षास्त्र मे उल्लेख मिला है की क्षत्रियो मे वैक्ष्य वृति (व्यापर ) करने वाले बुद्धिजीवी भी थे| रामायण काल के रजा जनक कहती है की हल चलते samay सीता मिली इस कथा का भाव कुछ भी हो यह घटना इस तथ्य को प्रतिपादित करती है की रामायण काल के रजा भी खैतिबादो करती थे|                    प्रसिद्ध साहित्यकार कक्शिप्रसाद जायसवाल तथा अंग्रेज इतिहासकार कर्नल ताड़ जिसने राजस्थान की जातियों का इतिहास लिखा है ने क्षुर्सैनी वंश को कई एक ग्न्राज्यो मे बटा हुआ माना है| इन इतिहासकारों के अलावा चिन देश के इतिहासकार ‘मैग्स्थ्निज’ ने काफी वर्षो तक भारत मे रहकर यह कई जातियों कई भ्लिभाती जाच कर सैनी गणराज्यों के बाबत इतिहास मे उल्लेख किया है| इन आर्य शासको का राज्य अर्याव्रता तथा यूरोप के एनी नगरों तक था| 
        महाभारत कई मासा प्रष्ठ १४९-१५० और वत्स पुराण अध्याय ४३ शलोक ४५ से यह पता चलता है कई शुरसैनी प्रदेश मे रहने वाले शुरसैनी लोग मालवे (मध्य प्रदेश) मे जाकर मालव अर्थात माली नाम से पहचाने जाने लगे| कालान्तर मे इन्ही मालवो मे चक्रवर्ती सम्राट वीर विक्रमादित्य हुये जिनके नाम से विक्रम सम्वत चालू हुआ| यह सम्वत छटी शताब्दी से पहले माली सम्वत के नाम से प्रसिद्ध था| मालव का अपन्भ्रस मालव हुआ जो बाद मे माली हो गया| ऐसा मत कई इतिहासकार मानते है|
          संकलन करते समय यदुवंशी तथा सैनी राजाओ मे उच्च कोटी की वीरता और क्षोर्य के साथ साथ उन्हे अच्छ कृषक भी बताया तथा कोटीलय के अर्थक्षास्त्र मे उल्लेख मिला है की क्षत्रियो मे वैक्ष्य वृति (व्यापर ) करने वाले बुद्धिजीवी भी थे| रामायण काल के रजा जनक कहती है की हल चलते samay सीता मिली इस कथा का भाव कुछ भी हो यह घटना इस तथ्य को प्रतिपादित करती है की रामायण काल के रजा भी खैतिबादो करती थे| प्रसिद्ध साहित्यकार कक्शिप्रसाद जायसवाल तथा अंग्रेज इतिहासकार कर्नल ताड़ जिसने राजस्थान की जातियों का इतिहास लिखा है ने क्षुर्सैनी वंश को कई एक ग्न्राज्यो मे बटा हुआ माना है| इन इतिहासकारों के अलावा चिन देश के इतिहासकार ‘मैग्स्थ्निज’ ने काफी वर्षो तक भारत मे रहकर यह कई जातियों कई भ्लिभाती जाच कर सैनी गणराज्यों के बाबत इतिहास मे उल्लेख किया है| इन आर्य शासको का राज्य अर्याव्रता तथा यूरोप के एनी नगरों तक था|
          महाभारत कई मासा प्रष्ठ १४९-१५० और वत्स पुराण अध्याय ४३ शलोक ४५ से यह पता चलता है कई शुरसैनी प्रदेश मे रहने वाले शुरसैनी लोग मालवे (मध्य प्रदेश) मे जाकर मालव अर्थात माली नाम से पहचाने जाने लगे| कालान्तर मे इन्ही मालवो मे चक्रवर्ती सम्राट वीर विक्रमादित्य हुये जिनके नाम से विक्रम सम्वत चालू हुआ| यह सम्वत छटी शताब्दी से पहले माली सम्वत के नाम से प्रसिद्ध था| मालव का अपन्भ्रस मालव हुआ जो बाद मे माली हो गया| ऐसा मत कई इतिहासकार मानते है| अब भी पैक्षावर मे खटकु सैनी पायी जाते है| तथा स्यालकोट सन १९४७ से डोगर सैनियो से भरा हुआ पड़ा था, सैनी शब्द के विवेचन से सैनी समाज के अपने लोगो को भली भाती ज्ञान चाहिये कई हमारा सैनी समाज सम्वत १२५७ के पर्व महाराज पृथ्वीराज चोहान भारत मे कितने वैभवशाली एव गोरवपूर्ण थे, अरब देश के लुटेरे मोहम्मद गोरी जो सम्राट पृथ्वीराज के भाई जयचंद को प्रलोभन देकर पृथ्वीराज को खत्म कराकर दिल्ली का शासक बन बैठा| इसकी पक्ष्चात भारत पर लगातार मुस्लिम आक्रताओ ने हमले कर बहरत के तत्कालीन शासको को गुलाम बना लिया| इसी समय से क्षत्रिय वीर भारत के किसी भी प्रान्त मे संगठित नही रहे|
           क्षत्रिय वीर अलग अलग रियासतो मे मुगलों से विधर्मियों से मिलकर अपनी बहिन बिटिया मुगलों को देने लगा गये| इससे राजस्थान के राजघराने के राजा अग्रणी रहे सिवाय मेवाड़ के म्हाराजाओ के| अन्य क्षत्रिय सरदार जो रियासतो के शासक नही थे किन्तु वीर और चरित्र से आनबान के धनी थे| उन्होने अपनी बहिन बैटिया की अस्मत बचाने के लिय क्षत्रिय वंश ( कुल छोड़कर ) इन क्षत्रियो से अलग हो गये| यह क्षत्रिय राजा राजस्थान मे अपना वर्चस्व कायम रखने हेतु अपने ही भाइयो को जिन्होंने ख्स्त्रिय कुल से अलग होकर दिल्ली के तत्कालीन बादशाह शहबुदीन मोहम्मद गोरी के पास अपने मुखियाओ को बेचकर कहला भेजा की अब हम क्षत्रियो से अलग हो गये| हमने अपना कार्यक्षेत्र कृषि अपना लिया| बादशाह को चाहिये ही क्या था? उसने सोचा कई बहुत ही अच्छा हुआ क्षत्रिय समाज अब संगठित नहीं रहा, क्षत्रियो कई शक्ति छिन्न भिन्न हो गये| अब आराम से दिल्ली का बादशाह बना रहूगा | 
       विक्रम सम्वत १२५७ अथार्त आज से ८०० वर्ष क्षत्रिय समाज राजपूतो से अलग हुये और कृषि कार्य अपना कर माली बने| सैनी क्षत्रिय जो माली शब्द से पहचाने जाने लगे
👑👑👑👑👑👑👑👑👑
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
हमारे पूर्वजो पहले क्षत्रिय थे,फिर माली कर्म से हम फूल माली या क्षत्रिय माली हुए ।।
हमारे और क्षत्रियो मीन्स राजपूतो के गौत्र,पेटा गौत्र,कुल देवी और कुल देवता ऐक ही है ।।
गोले माली वो ही सैनी है और सैनियों(गोले माली) के गौत्र हम क्षत्रिय माली और राजपूतो के गौत्र से नहीं मिलते ।।
कितने हमारे 12 गौत्र वाले क्षत्रिय माली लोग सोचा और समजा बिना ही सैनी लिखते है वो गलत बात है ।।
हम क्षत्रिय माली या राजपूत माली या फूल माली है ।।
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸
हम क्षत्रिय माली और राजपूतो मीन्स क्षत्रियो के गौत्र,पेटा गौत्र,कुल देव और कुल देवी एक ही है ।।
👇👇👇👇👇👇👇👇👇
(1) सोलंकी गौत्र :
================
सोलंकी गौत्र के कुलदेवी चामुंडा माता है और पांच पांडवो की कुल देवी भी चामुंडा माता थी ।।
सोलंकी गौत्र के महाराजा गुजरात के पाटण में हुए है ।।
सोलंकी कुल की कुल देवी सालंक माता भी है ।।
ये सालंक माता का मंदिर गुजरात के पाटन में आया हुआ है ।।
सोलंकी गौत्र की कुल देवी माँ श्रेमकरी मीन्स खिमज माता भी है ।।
माँ श्रेमकारी माता का मंदिर राजस्थान के भीनमाल में आया हुआ है ।।
सोलंकी कुल के कुल देवता खेतलाजी मीन्स क्षेत्रपाल दादा है ।।
ये मंदिर शीयाना खेतलाजी और सोनाणा खेतलाजी राजस्थान में आया हुआ है ।।
(2) गेहलोत/सिसोदिया/गोहील :
====================
गेहलोत गौत्र में से सिसोदिया और गोहील गौत्र हुए ।।
गेहलोत और सिसोदिया और गोहील गौत्र के कुलदेवी बाण माता है ।।
और
कुल देवता
शीयाना और सोनाणा खेतलाजी है ।।
(3) चौहान/टांक/देवड़ा :
=============
चौहान और टांक और देवड़ा एक ही परिवार के है और
राजपूतो में भी वो ही है ।।
चौहान/टांक/देवड़ा की कुलदेवी माँ आशापुरी है ।।
और
कुल देवता
सोनाणा खेतलाजी और शीयाना खेतलाजी है ।।
(4) परमार/सांखला :
=============
परमारों की उत्पति माउंट आबु से हुई है ।।
परमार में से सांखला गौत्र हुए ।।
अभी भी परमार और सांखला शादी नहीं करते क्योंकि भाई है और राजपूतो में भी परमार और सांखला लग्न नहीं करते ।।
कितने लोग सोचा और समजा बिना परमार की जगह पवार लीखते है, वो शब्द सही नहीं है ।।
 ओरिजिनल शब्द ही परमार है ।।
परमार और सांखला की कुलदेवी माँ अर्बुदा मीन्स अधर देवी है ।।
कितने सांखला गौत्र के लोग माँ अर्बुदा के साथ माँ सुंधा चामुंडा और महाकाली माता को अपनी कुलदेवी मानते है ।।
और
कुलदेव
परमार और सांखला गौत्र के कुलदेव सोनाणा और शियाना खेतलाजी है ।।
(5) भाटी :
============
भाटी में से यादव और जाडेजा और चुडासमा हुये ।।
गुजरात में भाटी के साथ जाडेजा और चुडासमा गौत्र बौत है किन्तु क्षत्रिय माली समाज में ओनली भाटी गौत्र ही है ।।
भाटी गौत्र की कुलदेवी तनोट माता है ।।
और
कुलदेवता
शीयाना खेतलाजी और सोनाणा खेतलाजी है ।।
एरिया की वजह से नाम अलग अलग हुए है किन्तु खेतलाजी खुद ही काल भैरव है ।।
(6) राठौड़ :
==============
क्षत्रिय माली समाज के राठौड़ गौत्र गुजरात और राजस्थान में ज्यादातर गौत्र है ।।
राठौड़ गौत्र की कुलदेवी नागणेश्वरी माता है और राजपूतो में भी वो ही है ।।
और
कुलदेवता
राठौड़ गौत्र के कुलदेवता मंडोरा भेरूजी है और शीयाना/सोनाणा खेतलाजी को भी मानते है ।।
(7) परिहार/पढ़ियार/सुंधेसा :
===============
परिहार में से ही पढ़ियार और सुंधेसा हुए है ।।
राजस्थान में ज्यादातर परिहार लिखते है और गुजरात में परिहार और पढ़ियार और सुंधेसा भी लिखते है ।।
परिहार की कुलदेवी गाजल माता है और परिहार/पढ़ियार/सुंधेसा गौत्र वाले माँ सुंधा चामुंडा को भी मानते है ।।
और
कुल देवता
कुलदेवता मंडोरा भेरूजी है और शियाना खेतलाजी/सोनाणा खेतलाजी को भी मानते है ।।
(8) तंवर :
=============
तंवर गौत्र को तुंवर गौत्र भी बोलते है ।।
रामदेव पिर खुद ही तंवर गौत्र के थे ।।
तंवर गौत्र की कुल देवी सागर माता है
और
कुल देवता
शियाना खेतलाजी और सोनाणा खेतलाजी है ।।
(9) कच्छवा :
==============
कछवा गौत्र वाले को कुश के वंस भी कहा जाता है और बिहार में कुछवाहा भी कहा जाता है ।।
कच्छवा गौत्र के कुलदेवी रुनायक देवी है
और
कुल देवता
मंडोरा भेरूजी है ।।
साथ में शियाना और सोनाणा खेतलाजी को भी मानते है राजपूतो की तरह ।।
👏👏👏👏👏👏👏👏👏
हमारे भी राजपूतो की तरह खुद का गौत्र छोड़ के ओनली 12 गौत्र में ही शादी होते है और परमार/सांखला गौत्र में शादी नहीं होते है,राजपूतो में भी वो ही है ।।
हमारे क्षत्रिय माली समाज में लखमाजी माली जैसे बड़े संत हुए है और अशोकजी गेहलोत हमारे क्षत्रिय माली समाज की शान है ।।
हम क्षत्रिय माली होने के साथ फूल माली और वन माली होने का भी बौत गर्व करते है ।।
हम और राजपूतो में फर्क उतने है की हम पुरे शाकाहारी होते है ।।
इज्जत/ईमानदारी/महेनत/खानदानी जैसे मूल्य हमारे खून में है ।। हम फूलो का बाग़ लगा के या जमींन में फसल/फ्रूट्स/सब्जी पैदा करके दुनिया को खिलाते है ।।
हम लोग महात्मा ज्योतिबा माली और सावित्रीबाई माली को हम आदर्श मानते है ।।
और
हमारे क्षत्रिय माली समाज के 12 गौत्र और उसके पेटा गौत्र वाले हमारे भाइयो पुरे हिंदुस्तान में रहते है ।। वो हमारे लिए गर्व की बात है ।।
जय क्षत्रिय माली समाज ।।
जय लखमाजी माली ।।
जय सावता माली ।।
जय महात्मा ज्योतिबा माली ।।
जय सावित्रीबाई माली ।।